पत्तागोभी के फायदे और नुकसान Advantages And Disadvantages Of Eating Cabbage

पत्तागोभी के फायदे और नुकसान Advantages And Disadvantages Of Eating Cabbage

यह पत्तागोभी या करमकल्ला के नाम से पुकारी जाती है। प्रतिदिन पत्तागोभी का सेवन उच्च रक्तचाप व रक्त के थक्के जमने से रोकता है, साथ ही घाव (Ulcer) और कैंसर से भी बचाव करता है। इसके पत्ते कच्चे सलाद के रूप में खायें, सब्जी खायें।आज खुद को स्वस्थ्य रखने के लिए लोग हरी सब्जियों का अपनी डाइट में ज्यादा से ज्यादा शामिल कर रहे हैं। पत्ता गोभी उनमें से एक है। अधिकांश घरों में सेवन किया जाने वाला पत्ता गोभी स्वास्थ्य के लिए एक गुणकारी सब्जी है। इसे लोग सब्जी और पकौड़े के रूप में खाते हैं। इसके अलावा इसका इस्तेमाल सलाद के रूप में भी किया जाता है। फायबर, बिटा केरोटिन, विटामिंस बी1, बी6, के, , सी  से भरपूर पत्ता गोभी त्वचा और बालों के लिए बहुत ही उपयोगी है। आयरन, पोटेशियम और सल्फर से भरपूर पत्ता गोभी ब्रेसिका परिवार का एक सदस्य  है जिसे बंद गोभी भी कहा जाता है। इस परिवार की अन्य सब्जियों में ब्रोकली, फूल गोभी और ब्रूसल स्प्रा उट आते हैं। 
पत्तागोभी में  घुलने वाला फायबरबिटा केरोटिनविटामिंस B1, B6, K, E, C के अलावा और भी कई विटामिंस भरपूर मात्रा में होते हैं। पत्तागोभी में मिनरल्स आयरन और सल्फर भी काफी ज्यादा होते हैं। पत्तागोभी आपके स्वास्थ्यत्वचा और बालों के लिए बहुत उपयोगी है। इसमें पाए जाने वाले खास गुणों के कारण इसे सुपर फुड भी माना जाता है। अगर आप अपने स्वास्थ्य को बिल्कुल दुरुस्त रखना चाहते हैं तो पत्तागोभी को अपने डाइट का हिस्सा बनाना सबसे बेहतर कदम है।

पत्ता गोभी के लाभ:  पत्तागोभी के कच्चे पत्ते 50 ग्राम नित्य खाने से पायोरिया व दाँतों के अन्य रोगों में लाभ होता है।

पत्तागोभी पेट को साफ रखने में बहुत कारगर है। इसमें क्लोरीन और सल्फर नाम के दो बहुत जरुरी मिनरल्स होते हैं। आप पत्तागोभी का ज्यूस पीने के बाद एक तरह की गैस महसूस करेंगे और यह गैस इस बात का इशारा होता है कि ज्यूस ने अपना काम करना शुरु कर दिया है।
पत्तागोभी के 50 ग्राम पत्ते खाने से गिरे हुए बाल उग आते हैं। बाल गिरते हों, गंज हो गई हो तो पत्तागोभी के रस से बालों को तर करके मलें और 10 मिनट बाद सिर धोयें। नित्य कुछ सप्ताह करने से लाभ होगा |पत्तागोभी के ज्यूस में पाया जाने वाले विटामिन E और सिलीकॉन से नए बाल उग आते हैं। इसके नियमित इस्तेमाल से आप काले और घने बाल पा सकते हैं।
आपने नाश्ते में पत्ता गोभी को शामिल करें या इसका जूस पिएं। इससे झुरियां जल्दी ही गायब होती है।
पत्तागोभी को वजन कम करने के लिए बहुत ही कारगर उपाय समझा जाता है। यह आपके पाचन को दुरुस्त करता है और इसमें कैलोरी की मात्रा भी बहुत कम होती है। यह पेट से जुडी हर प्रकार की समस्या से आपको निजात दिलाता है और अल्सर के इलाज में तो इसे अचूक उपाय समझा जाता है। 4. पत्तागोभी में फोलिक एसिड होता है जिसमें एनीमिया यानी खून की कमी को दूर करने का खास गुण होता है। फोलिक एसिड में नए ब्लड सेल्स का निर्माण करता है। 
आधा कप पत्तागोभी का रस और 5 चम्मच पानी मिलाकर सुबह-शाम पीने से अम्लपित्त में लाभ होता है।
पत्ता गोभी के पत्ते चबाकर खाने से कब्ज में आराम मिलता है। यह पेट से जुडी हर प्रकार की समस्या से आपको निजात दिलाता है और अल्सर के इलाज में तो इसे अचूक उपाय समझा जाता है।
पोटेशियम और विटामिन से भरपूर पत्ता गोभी शरीर का रंग साफ करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। इससे त्वचा नर्म और आकर्षित होती है।इसमें पोटेशियम (जिसमें आपके शरीर को साफ करने का गुण होता है) के अलावा विटामिन A और विटामिन E होते हैं। यह  दोनों विटामिन स्किन टीशुज को ताजगी देकर आपकी त्वचा को गोरानर्म और आकर्षक बनाते हैं।  
 प्रात: खाली पेट सर्वप्रथम कम-से-कम आधा कप पत्तागोभी का रस नित्य पियें। इससे आरम्भिक अवस्था में कैंसर, बड़ी आँत का प्रदाह ठीक हो जाता है। नींद की कमी, पथरी और मूत्र को रुकावट में पत्तागोभी लाभदायक है। इसकी सब्जी घी से छौंककर बनानी धाहिए।
इस रोग में आँत में सूजन आ जाती है। रोगी को भ्रम हो जाता है कि उसे भोजन नहीं पचता। बात-बात में निराश होने वालों को यह रोग प्राय: हो जाता है। एक गिलास छाछ में चौथाई कप पालक का रस, एक कप पत्तागोभी का रस मिलाकर नित्य दिन में दो बार पियें। कुछ ही दिनों में कोलाइटिस ठीक हो जाती है।
दो सौ ग्राम मठ्ठे में, पचास ग्राम पालक का रस और सौ ग्राम पत्ता गोभी का रस मिलाकर पीने से कोलाइटिस में बहुत ही लाभ देता है। दिन में दो बार सेवन करने से अधिक लाभ होता है। 
लगातार काम करने से आपकी मांसपेशियों में दर्द होता है तो पत्ता गोभी का सेवन कीजिए।
 मोतियाबिंद के खतरे को कमर करना है तो पत्ता गोभी का लगातार सेवन कीजिए। 
पत्ता गोभी के नुकसान:-
पत्ता गोभी की खासियत के साथ साथ हम आपको पत्ता गोभी से जुड़े सच के बारे में बता रहे है|पत्तागोभी में कई बार टेपवर्म नाम का कीड़ा मौजूद होता है और यह नंगी आंखों से नजर भी नहीं आता है। यह कीड़ा मनुष्य के दिमाग, लीवर और फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। यदि समय पर उपचार न हो तो आदमी काल का ग्रास बन सकता है। इस संदर्भ में जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. एसके सोनी ने बताया कि पत्तागोभी कच्चा खाना काफी खतरनाक हो सकता है। उन्होंने कहा कि इस सब्जी में कई बार टेपवर्म कीड़ा होता है जो कि आदमी के दिमाग, फेफड़े और लीवर पर कब्जा जमाकर अपना काम शुरू कर देता है, जिसके चलते आदमी गंभीर रूप से बीमार पड़ जाता है। आमतौर पर हम लोग पत्तागोभी को पकाने से पहले या कच्चा खाने से पहले धोते तो हंै, लेकिन यह कीड़ा गोभी की परतों के बीच में छिपे होने के कारण निकल नहीं पाता है और यह खाने के साथ आदमी के पेट में चला जाता है, जहां से यह आदमी के फेफड़े, लीवर या दिमाग में अपना डेरा जमा लेता है। उन्होंने कहा कि पत्तागोभी की सब्जी जल्दी ही पक जाती है, जिसके चलते टेपवर्म कीड़ा भी इसमें जीवित ही रह जाता है, इसलिए  पत्तागोभी  को  काटने से पहले और काटने के बाद भी धोना चाहिए। ऐसा करने से इस कीड़े से बचने की संभावना बढ़ जाती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.