आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए घरेलु उपाय

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए घरेलु उपाय

Aankhon ki roshni badhane ke upay

आजकल टेक्नोलॉजी का ज़माना है और कंप्यूटर या लैपटॉप या फिर बहुत देर तक स्मार्टफोन का इस्तेमाल करना आम बात है कई बार ऐसा भी होता है कि कुछ लोग बहुत ही ज्यादा देर तक टेलीविज़न देखते हैं या फिर बारीक काम करते हैं जैसे सिलाई का काम, सोने चांदी का काम, कढ़ाई करना, या बहुत देर तक स्टडी करना इस जैसे और भी कई काम कुछ देर तक तो ऑंखें आपका साथ देतीं है लेकिन फिर आंखों की अच्छी खासी मशक्कत हो जाती है और आंखें दर्द करने लगती हैं या उनसे पानी आने लगता है.
अगर आपकी दृष्टि कमजोर है और आप नियमित रूप से चश्मे का इस्तेमाल नहीं करते तो आपको सिरदर्द या फिर आंखों में सूखापन धुंधला देखना या फिर शाम के वक्त कम देखना इस प्रकार की कई समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं. आप हेल्थ इन हिंदी ब्लॉग में दिए गए इस घरेलु नुस्खे को आजमाइए निश्चित रूप से आपकी आंखों को बहुत फायदा मिलेगा.
वैसे तो बाजार में कई तरह के कॉस्मेटिक या अंग्रेजी दवाओं के इलाज के साथ दावा किया जाता है कि उनसे आपकी आंखों की रोशनी तेज हो जाएगी एवं उनसे पानी आना बंद हो जाएगा कई बार डॉक्टर ऑपरेशन की सलाह भी देते हैं लेकिन इस तरह के इलाज के साइड इफेक्ट भी हैं और यह पूरी तरह 100% सफल भी  नहीं है. यहां दी गई घरेलू औषधियां का इस्तेमाल करके आप कुछ ही दिनों में अपनी आंखों को प्राकृतिक तरीके से सेहतमंद बना सकते हैं.
आजकल की भागदौड़ भरी जीवन शैली के चलते हम अपने शरीर का ख्याल नही रख पाते. जिससे हमारा शरीर में अनेक समस्याएं हो सकती है. आजकल लोग अधिक देर तक कंप्यूटर आदि में काम करते हैं या घण्टो टीवी के सामने बैठे रहते हैं जिससे लोगो की आँखों में बुरा प्रभाव पड़ता है और आँखों की रौशनी कम होने लगती हैं. जिससे अनेक लोगो की आँखों में कम उम्र में ही चश्मा लग जाता हैं. आँखों की अनेक परेशानियों को दूर करने और आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए आँखों को व्यायाम की जरूरत पड़ती है. आँखों के लिए अनेक प्रकार के व्यायाम होते हैं जिनकी मदद से हम अपनी आँखों की रौशनी को तो बढ़ा ही सकते हैं साथ ही अपने आँखों को अनेक रोगों से भी दूर रख सकते हैं. यदि आप भी चाहते हैं की आपके आँखों स्वस्थ तथा खूबसूरत बनी रहे तो नियमित रूप से योगा और व्यायाम करें.

आँखों की रौशनी बढ़ाने के घरेलु उपाय

1 – बादाम, सौंफ और मिश्रीइन तीनों को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें. और रोज रात को 10 ग्राम तैयार किया हुआ यह पाउडर, 250 मिलीलीटर गर्म दूध के साथ सेवन करें. चमत्कारिक रूप से आपको इसका फायदा दिखने लगेगा.
2 – मोतियाबिंद का खतरा कम करने के लिए आहार में विटामिन सी लेने की आवश्यकता होती है. इसके लिए अमरूद, संतरे, नींबू, टमाटर, शिमला मिर्च, गोभी इत्यादि का सेवन करना चाहिए.
3 – हर रोज पैरों के तलवे और अंगूठे में सरसों के तेल से मालिश करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है.
4 – आंखों की देखभाल के लिए आहार में विटामिन का शामिल होना अनिवार्य होता है और विटामिन की पूर्ति के लिए गाजर, संतरे, नारंगी और पीले रंग की सब्जियों का इस्तेमाल करना चाहिए.
5 – सुबह उठते हीं मुंह की लार अपनी आंखों में काजल की तरह लगाएं. आंखों की रौशनी बढ़ने लगती है. और कुछ हीं दिनों में चश्मा उतर जाता है. उम्र के हिसाब से इसका प्रभाव लोगों पर पड़ता है. बच्चे को इसका फायदा जल्दी मिलता है. जैसेजैसे उम्र बढ़ती है उनको समय थोड़ा ज्यादा लगता है, लेकिन असर जरूर करता है.
6 – सुबहसुबह उठकर खाली पैर हरी घास पर 10 – 15 मिनट चलना चाहिए. सुबह के घास पर जो ओस होता है उसपे चलने से आंखों को ठंडक मिलती है.जिससे रौशनी तेज होने लगती है.
7. गुलाब जल
गुलाब जल से भी आंखों की जलन दूर हो जाती है। रूई के दो बड़े टुकड़े ले लें और इन्हें गुलाब जब में डुबोकर आंखों पर रखें। इससे आंखों की जलन दूर हो जाएगी। अगर आंखों की तकलीफ की वजह से सिर दर्द भी रहता है तो भी यह उपाय फायदेमंद रहेगा। इसका अरोमा सिर दर्द में भी फायदेमंद है।

8. हथेलियों की गर्माहट -:
हथेलियों की गर्माहट भी आंखों के लिए फायदेमंद है। अगर आपको थकान लग रही है तो दोनों हथेलियों को आपस में रगड़ें। इससे हथेलियां गर्म हो जाएंगी। इससे आंखों की मसाज करें। आराम मिलेगा।
9 पथ्यादि क्वाथः

आँख के मरीजों को सदैव सुबह-शाम 4 तोला पथ्यादि क्वाथ जरूर पीना चाहिए।
पथ्यादि क्वाथः बनाने की विधि। हरड़, बहेड़ा, आँवला, चिरायता, हल्दी और नीम की गिलोय को समान मात्रा में लेकर रात्रि को कलईवाले बर्तन में भिगोकर सुबह उसका काढ़ा बनायें। उस काढ़े में एक तोला पुराना गुड़ डालकर थोड़ा गरम-गरम पियें।
10. संतुलित आहार

याद रहे आपके खाने में सभी पोषक तत्व मौजूद हों। संतुलित आहार सिर्फ आंखों के लिए ही नहीं, पूरे शरीर के लिए जरूरी है। गाजर का रस, दूध, हरी सब्जियां, लहसुन, पालक, फल, मेवे, गोभी और नींबू इसका हिस्सा हो सकते हैं। पपीता, पका आम, दूध, घी, मक्खन,मधु, काली मिर्च, घी-बूरा, सौंफ-मिश्री, गुड़, सूखा धनिया, चौलार्इ, पालक, पत्तागोभी, मेथी पत्ती, कढ़ी पत्ती आदि कैरोटीन प्रधान पत्तियों वाली वनस्पतियां, पालक या कढ़ी पत्ती युक्त दाल, अंकुरित मूंग, गाजर, बादाम, मधु आदि का सेवन आँखों के लिए हितकारी है।

आँखों की रौशनी बढ़ाने के घरेलु उपाय और कुछ आवश्यक सुझाव

1 – हर रोज 2- 3 बार अपनी आंखों को पानी से धोएं.
2 –अपनी दोनों हथेलियों को आपस में तब तक रगड़ें,
जब तक कि वो गर्म ना हो जाए. और फिर अपने दोनों हथेलियों से दोनों आंखों को ढकें. इससे आंख की मांसपेशियों को आराम मिलता है.
3 – अपने कंप्यूटर की स्क्रीन की रोशनी को कम ही रखें. ताकि आपकी आंखों पर इसका बुरा प्रभाव ना पर सके.
4 – आंखों को धूल मिट्टी और सूरज की तेज किरणों से बचाना चाहिए.
5 – लगातार काम करते समय बीचबीच में आंखों को आराम भी देना चाहिए.
6. हर रोज प्रातः सायं एक-एक मिनट तक पलकों को तेजी से खोलने तथा बंद करने का अभ्यास करो। आँखों को जोर से बंद करो और दस सेकेंड बाद तुरंत खोल दो। यह विधि चार-पाँच बार करो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.